हास्य रस की परिभाषा उदाहरण सहित – Hasya Ras in Hindi


दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम आपको हास्य रस की परिभाषा उदाहरण सहित के बारे में पूरी जानकारी बता रहे है | तो चलिए जानते हैं – Hasya Ras in Hindi.

हास रस की परिभाषा

काव्य में किसी की विचित्र वेश – भूषा, आकृति, चेष्टा आदि हँसी उत्पन्न करने कार्यो का वर्णन हास रस कहलाता है | तथा यही हास जब विभाव अनुभाव तथा संचारी भाव से पुष्ट हो जाता है तो उसे हास रस कहा जाता है |

हास रस के उपकरण

  • हास रस का स्थायी भाव – हास
  • हास रस का आलम्बन विभाव – विकृत वेशभूषा, आकर एवं चेष्टाएँ |
  • हास रस का उद्दीपन विभाव – आलम्बन की अनोखी आकृति, बातचीत, चेष्टाएँ आदि|
  • हास रस का अनुभाव – आश्रय की मुस्कान, नेत्रों का मिचमिचाना एवं अट्टहास |
  • हास रस का संचारी भाव – हर्ष, आलस्य, निद्रा, चपलता, कम्पन, उत्सुकता आदि |

हास्य रस का उदाहरण – hasya ras ki paribhasha

उदाहरण -1

मुरली में मोहन बसे, गाजर में गणेश |
कृष्ण करेला में बसे, रक्षा करे महेश ||

उदाहरण -2

तंबूरा ले मंच पर बैठे प्रेमप्रताप,
साज मिले पंद्रह मिनट, घण्टा भर आलाप |
घण्टा भर आलाप, राग में मारा गोता,
धीरे – धीरे खिसक चुके थे सारे श्रोता |

उदाहरण -3

सीस पर गंगा हँसै , भुजनि भुजंगा हँसै,
हास की को दंगा भयो, नंगा के विवाह में|

उदाहरण -4

हँसी – हँसी भाजैं देखि दूलह दिगम्बर को,
पाहुनी जे आवै हिमाचल के उछाह में|

उदाहरण -5

सर मूसर नाचत नगन, लाखि हलधर को स्वांग|
हँसि हँसि गोपी फिर हँसे, मनहु पिये सी भाँग ||

अगर आपको इस पोस्ट पसंद आई हो तो आप कृपया करके इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें। अगर आपका कोई सवाल या सुझाव है तो आप नीचे दिए गए Comment Box में जरुर लिखे ।


Leave a Comment