वीर रस की परिभाषा उदाहरण सहित – Veer Ras in Hindi


दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम आपको वीर रस की परिभाषा उदाहरण सहित के बारे में पूरी जानकारी बता रहे है | तो चलिए जानते हैं – Veer Ras in Hindi.

वीर रस की परिभाषा

युध्द अथवा किसी कठिन कार्य को करने के लिए हृदय में जो उत्साह ज्रागत होता है उसे वीर रस कहते है |

वीर रस के उपकरण

  • वीर रस स्थायी भाव – उत्साह |
  • वीर रस आलम्बन विभाव – अत्याचारी शत्रु |
  • वीर रस उद्दीपन विभाव – शत्रु का पराक्रम, अहंकार, रणवाद्य, याचक का आर्त्तनाद, यश की इच्छा आदि |
  • वीर रस अनुभाव – रोमांच, गर्वपूर्ण उक्ति, प्रहार करना, कम्प, धर्मानुकूल आचरण आदि |
  • वीर रस संचारी भाव – उग्रता, आवेश, गर्व, चपलता, धृति, मति, स्मृति, हर्ष, उत्सुकता, असूया आदि |

वीर ​रस का उदहारण — Veer Ras Ki Paribhasha

उदाहरण -1

वीर तुम बढ़े चलो, धीर तुम बढ़े चलो |
सामने पहाड़ हो, सिंह की दहाड़ हो ||
तुम निडर डटे रहो, मार्ग में रुको नहीं |
तुम कभी रुको नहीं, तुम कभी झुको नहीं ||

उदाहरण -2

मैं सत्य कहता हूँ सखे
सुकुमार मत जानो मुझे |
यमराज से भी युद्ध में
प्रस्तुत सदा मानो मुझे |
है और की बात क्या,
गर्व करता है नहीं,
मामा तथा निज तात से
समर में डरता नहीं ||

उदाहरण -3

साजि चतुरंग सैन अंग मैं उमंग धारि,
सरजा सिवाजी जंग जीनत चलत है |
भूषन भनत नाद विहद नगारन के,
नदी नद मद गैबरन के रलत है ||

अगर आपको इस पोस्ट पसंद आई हो तो आप कृपया करके इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें। अगर आपका कोई सवाल या सुझाव है तो आप नीचे दिए गए Comment Box में जरुर लिखे ।


Leave a Comment