भक्ति रस की परिभाषा उदाहरण सहित – Bhakti Ras in Hindi

दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम आपको भक्ति रस की परिभाषा उदाहरण सहित के बारे में पूरी जानकारी बता रहे है | तो चलिए जानते हैं – Bhakti Ras in Hindi.

भक्ति रस की परिभाषा

भगवद गुण सुनकर जब चित्त उसमे निमग्न हो जाता है | तो कहाँ भक्ति रस होता है |

OR

भक्ति रस के विषय में आचार्यों में बड़ा मतभेद है| प्राचीन आचार्य से देव – विषयक रति मानकर शृंगार रस का ही एक भेद मानते रहे हैं| जहाँ पर परमात्मा – विषयक प्रेम विभाव आदि से परिपुष्ट हो जाता है, वहाँ पर ‘भक्ति रस’ की उत्पत्ति होती है|

भक्ति रस के उपकरण

  • भक्त रस स्थायी भाव — भगवान् – विषयक रति |
  • भक्ति रस आलम्बन विभाव — परमश्वर, राम, श्रीकृष्ण आदि |
  • भक्त रस उद्दीपन विभाव — परमात्मा के अद्भुत कार्य – कपाल, सत्संग, भक्तों का समागम आदि |
  • भक्त रस अनुभाव — भगवान् के नाम तथा लीला का कीर्तन, आँखों से आंसुओं का गिरना, गद्गद हो जाना, कभी रोना, कभी नाचना आदि |
  • भक्ति रस संचारी भाव — निर्वेद, मति, हर्ष, वितर्क आदि |

भक्ति ​रस का उदहारण — Bhakti Ras Ki Paribhasha

उदाहरण -1

मेरो तो गिरधर गोपाल, दूसरो न कोई |
जाके सर मोर मुकुट, मेरो पति सोई ||

उदाहरण -2

एक भरोसा एक बल, एक आस विस्वास |
एक राम घनस्याम हित, चातक तुलसीदास ||

उदाहरण -3

राम जपु, राम जपु, राम जपु बावरे |
घोर भव नीर – निधि, नाम निज नाव रे ||

अगर आपको इस पोस्ट पसंद आई हो तो आप कृपया करके इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें। अगर आपका कोई सवाल या सुझाव है तो आप नीचे दिए गए Comment Box में जरुर लिखे ।

Leave a Comment