अनन्वय अलंकार : परिभाषा एवं उदाहरण


इस आर्टिकल में हम अनन्वय अलंकार – Ananvay Alankar in Hindi पढेंगे, तो चलिए विस्तार से पढ़ते हैं अनन्वय अलंकार परिभाषा एवं उदाहरण

इसे भी पढ़ें –

अनन्वय अलंकार की परिभाषा

उपमान के अभाव के कारण उपमेय ही उपमान का स्थान ले लेता है, वहाँ अनन्वय अलंकार होता है।

अनन्वय अलंकार के लक्षण

एक ही वस्तु को उपमेय व उपमान दोनों कहना (जब उपमेय की समता देने के लिए कोई उपमान नहीं होता और कहा जाता है उसके समान वही है।) ही अनन्वय अलंकार के लक्षण है।

अनन्वय अलंकार के उदाहरण

राम-से राम, सिया-सी सिया;
सिरमौर बिरंचि बिचारि सँवारे।

स्पष्टीकरण— उपर्युक्त उदाहरण में राम और सीता ही उपमान है तथा राम और सीता ही उपमेय है। अत: यहां अनन्वय अलंकार है।


Leave a Comment